एकता और भाईचारे का हफ़्ता

हमने इस्लामी गणराज्य में इस हफ़्ते को यानी 12 रबीउल अव्वल (सुन्नी अक़ीदे के अनुसार पैग़म्बरे इस्लाम की विलादत का दिन) से 17 रबीउल अव्वल (शीया अक़ीदे के अनुसार पैग़म्बरे इस्लाम की विलादत का दिन) को एकता सप्ताह का नाम दिया है। यह सिर्फ़ एक नामकरण नहीं है, कोई राजनैतिक व रणनैतिक क़दम भी नहीं है, यह एक अक़ीदा और दिली ईमान है।

2020 November
जहां तक एकता सप्ताह की बात है तो मेरा ख़याल है कि स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी की इस महान पहल की अहमियत पहले से कहीं ज़्यादा उजागर हो गई है। जिस दिन इमाम ख़ुमैनी ने एकता सप्ताह का एलान किया था और अपने सार्वजनिक, राजनैतिक व सामाजिक रुझानों व नीतियों में इस्लामी मतों की एकता की घोषणा की थी, उस दिन इस संदेश के बहुत से वास्तविक संबोधक इस संदेश की अहमियत को नहीं समझ सके, जैसे बहुत से इस्लामी देशों के अधिकारी बिलकुल ही यह नहीं समझ पाए कि यह संदेश कितना अहम है। दूसरे भी बहुत से लोग समझ नहीं पाए, बहुत से लोगों ने ज़िद कर ली यानी अपने विभिन्न लक्ष्यों व हितों के कारण उन्होंने इस संदेश की अनदेखी कर दी। आज हम समझ रहे हैं कि यह संदेश कितना अहम था। आज जो घटनाएं हुई हैं, विभिन्न इस्लामी देशों के बीच जो तरह तरह के मतभेद हुए हैं, क्षेत्र के कुछ देशों में जो भयंकर घटनाएं हुई हैं, सीरिया में, इराक़ में, कुछ समय के लिए लीबिया में, यमन में और अफ़ग़ानिस्तान में, ये सब घटनाएं जो यहां हुई हैं, उनसे इंसान की समझ में आता है कि इस्लामी जगत की एकता कितनी अहम थी और इस्लामी समुदाय की एकजुटता कितनी मूल्यवान थी जिसकी इमाम ख़ुमैनी ने घोषणा की, उसके लिए निवेदन किया, उस पर आग्रह किया और अगर वह एकता होती तो इनमें से बहुत सी घटनाएं नहीं होतीं।
03/11/2020