23/10/2021
विलियम शेक्सपियर शेक्सपियर कि रचनाएं भी, साहित्य में दिलचस्पी रखने वाले इंसान के लिए, सादी की रचनाओं जितनी ही सम्मानीय हैं और मनोरंजक हैं।
23/10/2021
जॉन पॉल सार्टर साम्राज्यवाद के समय के एक कालखंड में पश्चिमी बुद्धिजीवियों ने, पश्चिम के उपनिवेशों के लोगों की आवाज़ से आवाज़ मिलाई।
22/10/2021
आप देखिए कि इन्होंने भारत में क्या किया? चीन में क्या किया? 19वीं सदी में अंग्रेज़ों ने भारत में वह तबाही मचाई कि - मुझे विश्वास है कि आप युवा इतिहास को भी और इन चीज़ों को भी कम ही अहमियत देते हैं - जो कुछ हुआ है उसका हज़ारवां हिस्सा भी आपने प्रचारों में और बातों में नहीं सुना है।
20/10/2021
किताब तालीम ए अहकाम सही तरीक़े से इबादत अंजाम देने और हलाल व हराम की पहिचान के लिए आसान ज़बान में तहरीर की गई है। यह आयतुल्लाहिल उज़्मा ख़ामेनई के फ़तवों और फ़िक़ही विचारों पर आधारित है।
18/10/2021
जवाहर लाल नेहरू ने लिखा कि ग़रीबी भी उन्हीं की देन है। ऐसे बहुत से ग़रीब देश जिनकी जनता ग़रीबी में जीवन बिता रही है और अपने प्राकृतिक स्रोतों से लाभ नहीं उठा सकती, उनकी ग़रीबी का पाप भी इन्हीं के सिर है।
ताज़ातरीन